Mahesh or Shiv

Shiva 

Mahesh or Shiv :

The third one in the trio is known as Mahesh or Shiv. Not too many incarnations are registered in his name. He is known as God of Death. All ghosts, demons, draculas and evil spirits are his followers. He is believed to be God of Shudras.

He is the only person who could successfully challange authority of Vishnu. Some writers advance a theory that he was God of original inhibitants of India. When Aryans invaded India, he resisted their move. But ultimately, he gave up when granddaughters of Brahma became his wives. Despite being ‘Jawaeen’ i.e. son-in-law of Brahmanic Super God, their hate for him did not vanish. Tulsi made Ram to say in his Ramcharit : Shiv worshipper is my foe. As per Harivash Puran Brahma’s son Daksh gave his one daughter Sati to Mahesh. But despite that relationship, he was always kept away from family functions.

Yags were the source of income, food, wine and even authority. Daksh did not give Shive his due share. His wife coitted suicide in the fire of yag. Infuriated over this incidence, he sent his men who destroyed the yag and killed Daksh like the animal is killed in yag. The attackers even urinated in the yag fire.

It shows that Shiv had no respect for yags which was lifeline of Aryans. Anyhow, Shiv was presented another woman instantly. However, Shiv too was Brhamanised. Some incidents have been associated with his name also.

  1. In Rajasthan, when someone dies, women sing songs for whole of night. These songs are called ‘Harjas’ i.e. praise of God. One of the Harjas depicts life of Shiv. It says that when Shiv returned after meditation of 12 years, he found a nine-year-old boy guarding his abode. When Shiv tried to enter, he resisted his move. Hence, the God cut his neck.
    This story clearly states that Shiv had not fathered that boy Ganesh. Parvati produced her in his absence. The Shiv who is claimed to be Triloki-nath i.e. owner of all the three worlds and having every-moment information of the universe could not know that Ganesh was son of his wife Parvati who produced him when he was engaged in meditation.
    More important is the fact that the God was so cruel that he cut the head of a little boy. Anybody can guess what would he do after taking incarnation.
  2. His second action was that of running after Vishnu the Mohini to quench his lust. Fortunate was Vishnu that he could save herself from the cluches of lustful Shiv. Otherwise, how many children Vishnu would have given birth, would have been other subject matter of Purans. Perhaps due to this, Ram gifted 16 adolescent girls to his incarnation Hanuman. The Ramayan says (Uttarkand ) that the girls had just entered their youth and their genitals had just started growing hair. Nothing is left to guess what the incarnation of Shiv did of those girls.
  3. His third story is about worship of his penis or phallus. Once all the three Gods had a fight on the question : who is the supreme. Their fight bore no result. Ultimately, Bhrigu the Brahman was appointed the Commissioner to decide the case. He first visited the abode of Brahma who did not take care of him. The Brahman was infuriated. He cursed as he did not worship the Brahman, henceforth, nonbody would worship Brahma. Then he went to Shiv. He was engaged in sexual intercourse with his wife. He too did not take notice of the Brahman. So the Brahman commanded that as he is always engaged in sex, he become a penis. So Shiv became penis with vagina around it. Then he went to Vishnu who was sleeping. Bhrigu the Brahman kicked him. He held of brahman’s foot and asked if it has not been hurt. Brahman was pleased with his Brahman-reverence. He was thus declared supreme god
  4. It is simply a cock & bull story. If Shiv had turned into ‘Penis’ why the life of Shiv did not come to an end. How could Shiv exist after becoming a penis? In fact, Brahmans made him penis to provide sanction of religion to their own lustful misdeeds. Their another book Ling Puran i.e. History of Penis tells another story. It says once Brahma and Vishnu were fighting over their supremacy. Suddenly a giant penis appeared between them. Both agreed whosoever would find one end of the penis, would be Supreme God. Both travelled thousands of miles but neither could find the end. Ultimately, they worshipped that penis of Shiv and named him Mahadev i.e. Supreme God.

It appears to be a story told by sex-maniac quack who sell medicine to cure all sex-problems.

Just think over! Whom do we call a ‘God’! It is universal acceptance that God is Father of all fathers. Then how can a ‘Father’ be a penis! How could daughters and sons worship penis of that Father. It is really a blot in the name of religion. A person who gets his penis worshipped a NEVER be a God.

If such a person is God, then where is a need for Satan? Even Satan does not think of doing so.

Posted in Hinduism topics | 2 Comments

Vishnu

Lord-Vishnu-Graphic

Vishnu : The maximum number of Incarnations are assigned to his name. There is little life story of Vishnu himself. In later Ved he is Deputy Inder i.e. Upender. In Purans, he is engaged mostly in tussle with Shiv to prove his superiority over him.

In his life, two misdeeds are so sinful that none could even imagine in his dreams that a God can do so! Thru these two sins, Vishnu ‘gifted’ the goons of the world a never-fail weapon. Vishnu was the first man in the world who used ‘woman’ to achieve his target. The goons of the world shall always be indebted to Vishnu for this. Given below are his two mahapaps i.e. colossus sin:

  1. The Hindu scriptures declare that Sur and Asurs were born to same mother. Sur were wine drinkers, gamblers and cheat but winners, hence they were called Gods. Asur were tetotallers, alms-givers and simple people but they lost to the Gods, hence they were called demons.
    Once there was rift among these two brothers and their children on the point of distributioon of ‘property’. It was agreed and decided that they would churn the Ocean and take out all the valuables out of it. (Just see the level of knowledge of the Puran-writer. He thought as butter floats out on shaking the curd so would happen on churning the sea-water.)
    It was also agreed that the valuables coming out of sea would be owned by them in turn i.e. first article would go to Gods, second to Asurs, third to Gods, fourth to Asurs and so on.
    Amrit i.e. Nectar came out in the turn of Asurs. Morality demanded this should go to the Asurs. But, what is use of Gods if they do not deceive. Vishnu hatched a sinful deceit. He adorned himself as ‘most beautiful prostitute’ and appeared at the site. For a moment, all were mesmerised by her beauty. Before Asurs could regain their senses, Vishnu lifted their pitcher of netcar and fled away. Thus, the Brahmanic God taught his people that woman could be used to deprive others of their lawful belongings.
    This eternal tradition has been constantly used by Brahmans to achieve victory over the opponents. Inder has applied this formula millions of times to save his throne from his opponents. Even Brahmanic Goddesses of Power did not hesitate to show their beautiful limbs to trap their prey. Even Brahmanic people unsuccessfully tried this weapon against Baba Sahib Ambedkar. 
  2. In the first attempt, Vishnu himself became a ‘female’ but in his second attempt he did what a normal man can NEVER imagine of doing. NO SECOND EXAMPLE IS AVAILABLE IN ANY OTHER RELIGION IN THE WORLD.
    King Jallandhar was ruler of Indian territory. He was true replica of Emperor Ashoka. Puran testifies that in his kingdom there was peace everywhere. It 

says that a damsel wearing load of gold ornaments and moving out in the dead of night had no threat to her chastity, life or ornaments.

The Gods got jealous of him. They thought that if that trend continued, people would forget them. They approached Vishnu. He inquired into the matter and found that Ma Vrinda was the power behind King Jallandhar.

With his criminal mind, he chalked out a conspiracy. The Gods were happy to know his evil designs. Gods engaged King Jallandhar in a battle outside his capital. Vishnu dressed like King Jallandhar and in the darkness entered the house of Ma Vrinda. She mistook him as her husband. And before she could raise any resistence, he committed rape on her.

He was caught and his face was blackened but in the meantime, Ma Vrinda committed suicide. Since then in Indian peninsula, it has become a custom that a face of the sinner is balckened. King Jallandhar was down with the grief of suicide by his beloved wife, when Gods attacked and kiled him. A state of Utopia was ruined by the Hindu Gods!

Thru this criminal sin, the Supreme God of Brahmans gave a message to his people as to how to ‘use’ a woman to conquer one’s opponent. He told his people that use of woman either as Mohini or as Ma Vrinda never goes waste. THUS, THE VISHNU COULD BE CALLED ‘ADI-GUNDA’ THAT IS ‘SEED CRIMINAL’.

Perhaps a mafia don too would be hesitant in taking suh heinous step. But in Brahmanism such a criminal is their supreme god.

It is anybody’s guess, what would he do after taking incarnation as Ram and Krishan. It is natural that incarnations of such a criminal would cut nose and ears of women proposing for marriage or elope with married women of relatives.

Fortunately, the residue of the teachings of our Saints : Buddha, Mahavir Jain, Kabir, Ravidas, Nanak etc, still exists in our conscience which forbid us from adopting misdeeds of Vishnu like “Gods”. Only a few criminals follow him.

Just a short time back, there occurred a ‘Tehlaka Scandal’ in which one courageous journalist exposed politicians, Ministers and high ranking officers who take bribe in the purchase of weapons for Defence forces. Later on, the journalist was accused of taking services of ‘unwanted’ girls to expose all these corrupt people. Almost every news paper admonished the journalist for taking services of such girls but these papers themselves publish stories of the Vishnu who used woman for personal gains.

Posted in Hinduism topics | 1 Comment

Theory of Incarnation “Avatar” in Hinduism

krishna-avatars-2-e1329163475369

Theory of Incarnation “Avatar”

The theory of incarnation of God is one of the most successful bait to lure/entrap the ‘religious’ mind people. And this is the theory most abundantly discussed.

The Verse 7 & 8 of Chap. 4 talks of promise or declaration of God that he incarnates in every Yug whenever the religion or saints are put to jeopardy. The verses, in verbatim, are as under:

The meaning of these verses is as follows.

The God declares, “O! Arjun, whenever and wherever there is loss to religion and the irreligion enhances, then I produce myself. Then I save the saints and finish the evil-doers. In order to establish religion, I make myself possible in every era.

The translation has been done as the ISCON chief ACP has done in his book namely Gita Yatharoop.

As per these verses, there are three important functions that are related to the event of incarnation.

1. That God creates/produces himself.

2. That he stops decay of religion and increase of irreligion.

3. That he saves the saints and punishes the wicked.

It is pleasant to hear such a theory. In this world, all the theists nurture a belief in their hearts that God is as such. He believes a God is there to protect the good people and punish the bad ones. Even every atheist too demands that if there be a God, he must perform these functions.

Now a few questions arise viz. is there any possibility of incarnation of God; more importantly had there been actually any incarnation as claimed in Brahmanic scriptures; had those incarnated Gods of Hinduism performed such acts like the killing the cheats and saving the saints.

The veracity of Gita and its theories must be tested on these norms or criteria.

Meaning of Incarnation: In Hinduism the term used for incarnation is “Avtār” which literally means ‘to come down’ from sky. Usually all theists believe that God lives in the sky or some place above the sky.

The theory of Avtār states that the Brahmanic God comes or takes birth on the Earth as and when there is decay of religion. The term “Brahmanic God” has been used for two reasons:

1. There exist hundreds of religions and faiths on the Earth. Except Hinduism no other religion has claimed that the one Almighty God comes down on the Earth to save their religion. It is only Hinduism that claims their Gods have already come down for as many as 30 times. Their God has also already made advance booking for Kaliyug. His name will be Kaliki. He is merely waiting for ‘irreligion’ to crop up. Surprisingly, the Kalik ihas already put to death many people including breast-feeding mother and her son.

2. Almost all the Brahmanic Gods have taken Avtārs simultaneously. God is believed to be ‘one piece item’. It has no replicas, no carbon copies, no Xerox copies etc. But here in Brahmanic religion there is no One God. There are three Gods and 330 millions gods. Everybody is capable of taking Avtār or incarnation. Many have taken Avtār and many more are taking daily. In all major religions, their founders claimed to be messengers of God. Like Jesus was prophet of God, Mohammed was last messenger of God. But in Hinduism religion their heroes are claiming to be God themselves. The trio of Brahma, Vishanu and Mahesh are always fighting for supremacy. It is somewhat weird that God incarnates in the form of some living creatures or non-living items. All over the world, the propounders of ‘God’ have always asserted that God is omnipotent. NOBODY living or dead can be away or above the reign of God. If God is not ‘all-powerful’ how could he be God, then he would be like anybody. So it is something unimaginable that God has to incarnate himself as swine, fish or half-beast to accomplish some task. If a Hanuman could swallow whole of the Sun, Krishan could lift a 20 km radius rock on his little finger, why did their God incarnate as shit eater animal to bring back Vedas from a demon? I create myself is concerned, it is again a weird idea that God creates himself. A reading given to both the verses together reveals that God makes his 15 creation possible in every era. Question arises when God is already existing, how could he ‘create’ himself.

If creating is taken as transforming i.e. God transform himself in pig, monkey, Raam Krishan etc. question arises who controls the Universe during this time because during this time God remains busy in some other important jobs. For example, as a swine God remains busy in digging the earth, as a Raam he remains busy in crying for Sita. And as Krishan he is over-busy. He has more than 300 million women to undress, make love with them and then to incite Arjun to kill his kith & kin!

When God is busy performing such great tasks, who remains there to perform his usual jobs of controlling the universe. In Hinduism, instead of one supreme God there are three Gods each superior to the other two. Brhma creates the universe but he himself is created from the belly of Vishanu who always worships penis of Shiv who is entrusted with the Ministry of the Dead, Ghosts etc. So who performs this task. I create myself, remains unanswerable in the Hinduism. More so, all the theist religions agree and assert that God is formless. In Islam and Sikh Dharam, it is almost the highest sin to make picture of God. But in Brahmanic system none of the trio is formless. Each one among the trio has his own distinct form. Like Uncle Sam or Santa Claus, the Brahmanic Gods have not only a specific aged body but also a unique dress. As Santa Claus is always found riding a sledge driven by reindeers so is Brahmanic trio: Brahma, Vishanu and Mahesh.

Brhma is depicted as 90 year old man sporting white beard, wearing white shirt and dhoti. He is either seated over a lotus or hangs in the air. Vishanu is of blue color, upper half of body naked, always lying on a snake and his wife massaging his legs. Shiv or Mahesh is blackish blue, wearing no clothes but simply wrapping a deerskin around his waist. He is either found sitting on icy rock or a bull. His wife is found normally sitting on his thigh. Brhma is never found with his mate.

So the Gods of Brahmans have distinct dresses and shapes. Now it is inexplicable how Brhma or Vishanu could not have achieved their goal by not incarnating themselves in the shape of a swine.  As per Brahmanic scriptures as many as 30 incarnations of their Gods have already occurred. Only these three have done the exercise of incarnation. However, there are contradictory claims as to which God incarnated in which shape. So the claim of Gita that the God creates himself is void abinitio. He rather three Gods of Brahmans is already a “created object” having definite shape and dress. Mind it, Gita does not say that God “moulds” himself in another shape to protect religion. It says “I create myself”. There is one thing common and certain about the Avtār. All the Avtārs have been taken with pre-planned strategy and goal. Whatsoever, the incarnated fellow has to do, are settled much before the incarnation.

For example, when Raam was alive, 30 million Brahman saints and some thousand gods’ wives came to have sex with Raam but as he was not in a position to fulfill their demand in that birth, he booked all of them for his next round. Hence, the Brahmanic God had to incarnate himself as Krishan to fulfill sex desire of some 30 million, 18 thousand and nine women! Raam had incarnated only to murder Emperor Ravana. The abduction of Sita was immaterial. As the wolf was to devour lamb whether or not he muddled the water, same was the story of Raam.

Posted in Hinduism topics | 2 Comments

श्री कृष्ण : भगवान है या बलात्कारी..???

1606951_237073693148800_6130462778447083184_n

श्री कृष्ण : भगवान है या बलात्कारी..???

दशरत राम यदि ‘मर्यादा पुरुषोत्तम’ कहलाता हैं
तो वासुदेव नंदन कृष्ण ‘लीला पुरुषोत्तम’ अर्थात कृष्ण
अपनी अनोखी लीलाओ के कारण जन सामान्य में अधिक लोकप्रिय रहे हैं.

संभवत: कृष्ण का बचपन नंदगांव और गोकुल में गोपियों के बीच
बीता. कृष्ण औरतो के मामले में शुरू से ही स्वतंत्र विचार के थे.
पुराणों के अनुसार उनका मिजाज़ लड़कपन से ही आशिकाना मालूम होता हैं.
गोपियों के साथ कृष्ण का यौन सम्बन्ध था इस विषय
में लगभग सारा कृष्ण साहित्य एकमत हैं. इन गोपियों में विवाहित और
कुमारी दोनों प्रकार की थी वे अपने पतियों, पिताओ और
भाइयो के कहने
पर भी नहीं रूकती थी:
‘ ता: वार्यमाणा: पतिभि:
पितृभिभ्रातृभि स्तथा,
कृष्ण
गोपांगना रात्रौं रमयंती रतिप्रिया :’
-विष्णुपुराण, 5, 13/59.
अर्थात वे रतिप्रिय गोपियाँ अपने
पतियों,
पिताओं और भाइयो के रोकने पर भि रात में
कृष्ण के
साथ रमण करती थी.

कृष्ण और गोपियों का अनुचित सम्बन्ध
था यह बात
भागवत में स्पष्ट रूप से मोजूद हैं,
ईश्वर अथवा उस के अवतार माने जाने वाले
कृष्ण का जन
सामान्य के समक्ष अपने ही गाँव की बहु
बेटियों के साथ सम्बन्ध रखना क्या आदर्श
था ?

कृष्ण ने गोपियों के साथ साथ ठंडी बालू
वाले
नदी पुलिन पर प्रवेश कर के रमण किया.
वह स्थान
कुमुद की चंचल और सुगन्धित वायु आनंददायक
बन
रहा था. बाहे फैलाना, आलिंगन करना,
गोपियों के हाथ
दबाना, बाल (चोटी) खींचना, जंघाओं पर
हाथ फेरना,
नीवी एवं स्तनों को चुन, गोपियों के नर्म
अंगो नाखुनो से नोचना, तिर्चि निगाह से
देखना,
हंसीमजाक करना आदि क्रियाओं से
गोपियों में
कामवासना बढ़ाते हुए कृष्ण ने रमण किया.

-श्रीमदभागवत महापुराण 10/29/45
कृष्ण ने रात रात भर जाग कर अपने
साथियो सहित
अपने से अधिक अवस्था वाली और माता जैसे
दिखने
वाली गोपियों को भोगा.
– आनंद रामायण, राज्य सर्ग 3/47
कृष्ण के विषय में जो कुछ आगे पुरानो में
लिखा हैं उसे
लिखते हुए भी शर्म महसूस होती हैं
की गोपियों के
साथ उसने क्या-क्या किया इसलिए में निचे
अब
सिर्फ हवाले लिख रहा हूँ जहा कृष्ण ने
गोपियों के
यौन क्रियाये की हैं-

- ब्रह्मावैवर्त पुराण, कृष्णजन्म खंड 4,
अध्याय
28-6/18, 74, 75, 77, 85, 86, 105,
109,110,
134, 70.
– ब्रह्मावैवर्त पुराण, कृष्णजन्म खंड 4,
115/86-88
कृष्ण का सम्बन्ध अनेक नारियों से रहा हैं
कृष्ण
की विवाहिता पत्नियों की संख्या सोलह
हज़ार एक
सो आठ बताई जाती हैं. धार्मिक क्षेत्र में
कृष्ण के साथ
राधा का नाम ही अधिक प्रचलित हैं. कृष्ण
की मूर्ति के साथ प्राय: सभी मंदिरों में
राधा की मूर्ति हैं. लेकिन आखिर ये
राधा थी कौन?
ब्रह्मावैवर्त पुराण राधा कृष्ण
की मामी बताई गयी हैं.
इसी पुराण में राधा की उत्पत्ति कृष्ण के
बाए अंग से
बताई गयी हैं
‘कृष्ण के बायें भाग से एक कन्या उत्पन्न हुई.
गुडवानो ने
उसका नाम राधा रखा.

- ब्रह्मावैवर्त पुराण, 5/25-26
‘उस राधा का विवाह रायाण नामक वैश्य
के साथ कर
दिया गया कृष्ण
की जो माता यशोदा थी रायाण
उनका सगा भाई था.

- ब्रह्मावैवर्त पुराण, 49/39,41,49
यदि राधा को कृष्ण के अंग से उत्पन्न माने
तो वह
उसकी पुत्री हुई . यदि यशोदा के नाते
विचार करें
तो वह कृष्ण की मामी हुई.
दोनों ही दृष्टियो से
राधा का कृष्ण के साथ प्रेम अनुचित था और
कृष्ण ने
अनेको बार राधा के साथ सम्भोग
किया था ( ब्रह्मावैवर्त पुराण, कृष्णजन्म
खंड 4,
अध्याय 15) और यहाँ तक विवाह भी कर
लिया था (ब्रह्मावैवर्त पुराण, कृष्णजन्म
खंड 4,
115/86-88).
मित्रो मैन ईस पोस्ट मे कुछ भी गलत नही कहा है.. सारी बाते भविष्य पुरानों के अनुसार प्रमाणीत है.. गलीया गलोच और भगवानो की वकालत करने से पेहले भविष्य पुरानों मे ईसकी जांच करे धन्यवाद..

Posted in Hinduism topics | 8 Comments

तो कभी मत्स्य अवतार हुआ

1779914_1529382133952909_643490547_n

1. मत्स्यावतार: आर्यों के वेदों और पुराणों में वर्णित मत्स्य अवतार का गहन अध्ययन करने से और हजारों शोधों का अध्ययन करने से पता चलता है कि यह एक झूठी कहानी है। ना तो कभी मत्स्य अवतार हुआ और ना ही आज तक पूरी दुनिया में कोई ऐसा इंसान हुआ जो व्हेल मछली जैसी भीमकाय मछली को अपने वश कर सके। ब्राह्मणों ने मत्स्य अवतार बना कर पहली ईसवी से उन्नीस ईसवी तक के समय में तो मूल निवासियों को मुर्ख बना लिया लेकिन आज बीसवीईसवी में किये गए हजारों शोधों से यह बात साबित हो गई है कि मत्स्य अवतार की कथा सिर्फ एक झूठ है। तो सच क्या है?
सच यह है कि ईसा से 3200 साल पहले यूरेशिया में एक क्रूर जाति उत्पात और विनाश मचाती रहती थी। जिस का नाम “मोगल” था। वहां के शासकों ने उस जाति के सभी आदमियों को पकड़ कर एक बड़ी नाव में बिठा कर बीच समुद्र में छोड़ दिया, और आशा की कि यह जाति समुद्र में दफ़न हो जाये। लेकिन यह भारत जिसको उस समय चमार-दीप कहा जाता था, का दुर्भाग्य था, कि मोगल जाति के लोग भारत में पहुँचे। इसी से मत्स्य अवतार का उदय हुआ। कई दिनों तक समुद्र में भटकने के बाद युरेशियनों को जमीन दिखाई दी थी। इसी से युर्शियनों ने ये कल्पना भी गढ़ी थी कि धरती पानी में स्थित है। 19वी सताब्दी तक सारे भारत के मूल निवासी यही मानते थे कि धरती पानी में है। युरेशियनों ने मत्स्य अवतार की कहानी अपने आप की श्रेठ साबित करने के लिए गढ़ी थी और अपने आपको देवता सिद्ध कर दिया था। बाद में इस कहानी को आगे पीछे कर के वेदों और पुराणों में स्थापित किया गया ताकि किसी को सच्चाई पता ही ना चले। ना तो कभी मत्स्य अवतार हुआ, और ना ही यूरेशियन देवता थे। आज ये सच्चाई साडी दुनिया जानती है।
2. कुर्मावतार: वेदों और पुराणों में लिखी हुई कुर्मा अवतार की कहानी भी मत्स्य अवतार की तरह सिर्फ एक झूठ ही है। जब कभी समुद्र मंथन ही नहीं हुआ, तो कुर्मा अवतार कैसे हो गया? अगर कुछ लोग यहाँ सवाल करे तो उन से हमारे कुछ सवाल है: 1. क्या यूरेशियन पानी पर चलते थे? 2. यूरेशियन पानी पर चलते थे तो वह कौन सी तकनीक थी? 3. अगर असुर अर्थात राक्षस भी थे, तो असुर को पानी पर चलने की तकनीक कैसे चली? पानी पर चलने की तकनीक पर तो यूरेशियन आर्यों का एकाधिकार था। 4. अगर यूरेशियन आर्य धनवंतरी ने ही अमृत लाना था तो आर्यों ने खुद अपने आर्य भाई धनवंतरी को अमृत लेन को क्यों नहीं कहा? 5. असुरों और आर्यों ने सुमेरु पर्वत को कैसे समुद्र में स्थापित किया और सुमेरु पर्वत को वापिस उसी जगह कौन रख कर गया? 6. लक्ष्मी अपनी जवानी तक समुद्र में क्या कर रही थी? 7. युरेशियनों ने तो अमृत पिया था, तो वो मर क्यों गए? आज तक उस समय का कोई आर्य जिन्दा क्यों नहीं नहीं है? तो इन सभी सवालों का यह अर्थ निकालता है की समुद्र मंथन कभी नहीं हुआ। यह एक काल्पनिक कहानी है। असल में असुर और आर्यों के संग्राम में आर्यों को हार का मुह देखना पड़ा। सारे आर्य डर के मारे समुद्र के किनारे जा छुपे, और भारत (चमार दीप) छोड़कर भागने वाले थे। उस समय धुर्त विष्णु नाम के आर्य ने कछुए वाली निति अपनाई और कछुए के समान शांत रह कर मूल निवासियों के साथ संधि कर ली। यह संधि आर्यों के लिए अमृत के समान सिद्ध हुई, और आर्यों को भारत (चमार दीप) को नहीं छोड़ना पड़ा। यह संधि समुद्र के किनारे बहुत दिनों के विचार विमर्श के बाद हुई थी इसीलिए समुद्र के किनारे किये गए विचार विमर्श को समुद्र मंथन और उस से निकले परिणाम को आर्यों ने अमृत कहा। कुर्मा अवतार की कहानी तो बाद में युरेशियनों ने अपनी महानता सिद्ध करने के लिए गढ़ी थी। उस समय वह ना तो कोई समुद्र मंथन हुआ और ना ही कोई अमृत नाम की चीज या पेय पदार्थ निकला था। ना समुद्र मंथन हुआ, ना अमृत निकला, अपनी हार को भी इन विदेशी ब्राह्मणों ने अपनी महानता में बदल दिया।
3. वराह अवतार: वराह अवतार की कथा भी हिन्दू पुराणों में बहुत ही गलत ढंग से बताई गई है, जिसमें बताया गया कि हिरणायक्ष ने धरती को चुरा लिया था। धरती को चुरा कर हिरणायक्ष ने पानी में छुपा दिया। विष्णु सूअर बना और हिरणायक्ष को मार कर विष्णु ने धरती को पानी से बाहर अपने दांतों पर निकला। अब यह कितना सत्य है यह तो पाठकगण पढ़ कर ही समझ गए होंगे। बिना बात को घुमाये आप लोगों को सची घटना के बारे बता देते है। असल में हुआ यूँ था की हिरणायक्ष दक्षिण भारत के प्रायद्वीपों का एक महान मूल निवासी राजा था। जिसने सभी यूरेशियन आर्यों को दक्षिण भारत में मार और डरा कर सभी द्वीपों भगा दिया था। देवताओं ने बहुत सी युक्तियाँ लगा ली थी परन्तु हिरणायक्ष एक अपराजय योद्धा था, जिसे कोई भी आर्य प्रत्यक्ष युद्ध में हरा नहीं सकता था। हिरणायक्ष ने सारी दक्षिण भारत के सभी द्वीपों पर अपना अधिपत्य स्थापित कर दिया था। दक्षिण भारत में और उसके आस पास के द्वीप पानी में स्थित थे और आर्यों का उन द्वीपों पर से राज्य समाप्त हो गया था। तो इस घटना को पृथ्वी को पानी के अन्दर ले जा कर छुपाना प्रचारित किया गया। हिरणायक्ष को हराने के लिए एक बार फिर विष्णु ने छल कपट का सहारा लिया और हिरणायक्ष को युद्ध करने समुद्र में ललकारा। पानी में युद्ध करते समय विष्णु ने धोखे से हिरणायक्ष के सर के पीछे वार किया और हिरणायक्ष को मार दिया। हिरणायक्ष को मारने के बाद आर्यों का कुछ द्वीपों पर फिर से राज्य स्थापित हो गया। मूल निवासी कभी इस घटना की सच्चाई ना जन ले इस लिए आर्यों ने विष्णु को भगवान् और हिरणायक्ष को राक्षस या असुर बना कर आम समाज के सामने प्रस्तुत किया। अब अगर विज्ञान की ओर से भी इस घटना का विश्लेषण किया जाये तो पता चलता है कि यह घटना एक दम काल्पनिक है। क्योकि समुद्र धरती पर है ना की धरती समुद्र में। तो यहाँ प्रश्न उठता है अगर हिरणायक्ष ने धरती को समुद्र में छुपाया तो कैसे? इतना बड़ा समुद्र कहा है जिस मैं पृथ्वी समा सके? ना तो कोई विष्णु अवतार हुआ और ना ही पृथ्वी को पानी के अन्दर छुपाया गया। यह सिर्फ मूल निवासियों को मुर्ख बनाने की चाल मात्र थी।

Posted in Hinduism topics | Leave a comment

समुद्र मंथन

1175307_1417822685096992_1115838574_n

मित्रो यह पूरा पोस्ट ध्यान से पडे ।।।

समुद्र मंथन दुनीया के सबसे बडे गप्पो मेसे एक,

दैत्यराज बलि का राज्य तीनों लोकों पर था। इन्द्र सहित देवतागण उससे भयभीत रहते थे। इस स्थिति के निवारण का उपाय केवल विष्णु ही बता सकते थे, अतः ब्रह्मा जी के साथ समस्त देवताभगवान विष्णु के पास पहुचे !

उन्होंने भगवान विष्णु को अपनी विपदा सुनाई। सब सुन कर विष्णु बोले तुम दैत्यों से मित्रता कर लो और क्षीर सागर को मथंन कर उसमें से अमृत निकाल कर पान कर लो। दैत्यों की सहायता से यह कार्य सुगमता से हो जायेगा।
इस कार्य के लिये उनकी हरशर्त मान लो और अन्त में अपना काम निकाल लो !! अमृत पीकर तुम अमर हो जाओगे और तुममें दैत्यों को मारने का सामर्थ्य आ जायेगा।
दैत्यराज बलि ने देवराज इन्द्र से समझौता कर लिया और समुद्र मंथन के लिये तैयार हो गये। मन्दराचल पर्वत को मथनी तथा वासुकी नाग को नेती बनाया गया।
स्वयं भगवान श्री विष्णु कच्छप अवतार लेकर मन्दराचल पर्वत को अपने पीठ पर रखकर उसका आधार बन गये !!

“समुद्र मंथन आरम्भ हुआ और समुद्र मंथन से निम्न चिजे निकली !!
1:- सबसे पहले जल का हलाहल विष निकला, विष को शंकर भगवान के द्वारा पान कर लिया गया उनका गला निला फड़ गया ।
2:- दूसरा रत्न कामधेनु गाय निकली जिसे ऋषियों ने रख लिया।
3:- फिर उच्चैःश्रवा घोड़ा निकला जिसे दैत्यराज बलि ने रख लिया।
4:- उसके बाद ऐरावत हाथी निकला जिसे देवराज इन्द्र ने ग्रहण किया।
5:- ऐरावत के पश्चात् कौस्तुभमणि समुद्र से निकली उसे विष्णु भगवान ने रख लिया !!
6:- फिर कल्पद्रुम निकला और रम्भा नामक अप्सरा निकली। इन दोनों को देवलोक में रख लिया गया।
7:- फिर समु्द्र को मथने से लक्ष्मी जी निकलीं। लक्ष्मी जी ने स्वयं ही भगवान विष्णु कोवर लिया।
8:- फिर एक के पश्चात एक चन्द्रमा, पारिजात वृक्ष तथा शंख निकले और अन्त में धन्वन्तरि वैद्य अमृत का घट लेकर प्रकट हुये।
मित्रो आप खुद समझ सकते हो कि ये कितनी बडी बकवास है, पुरी तरह काल्पनिक और अवैग्यानिक है।।
कितनी अजीब बात हे कि जब भगवान को भी कुछ चाहीये होती तो उन्हे भी महनत करना पडी ।।
वैसे तो समुर्द का मंथन करना कि एक महा गप है ।। फिर भी कुछ बेचारे लोग न चाहते हुए भी इसगप्पे को सच मानते है, इस पर स्वभाविक रुप से मेरे मन मे जो संकाये पैदा हो रही है वो कुछइस प्रकार है ।।
1:- सबसे पहले कि स्मुद्र का मंथन किया जा रहा है तो क्या यह समुद्र के किनारे प किया गया या फिर बिच गहराई मे, किनारे पर तो होगा नही तो बिच गहाराई मे किया गया तो देवता तो ठिक लेकीन सभी राक्षसो को भी पानी पर चलना आता था क्या ??
2:- समुद्र का मंथन करने से विष निकला ????
समुद्र का मंथन करने से अगर नमक निकलने की बात कही गयी होती तो बात कुछ हजम भी हो जाती,
और शंकर भगवान ने विष पिया तो उनका गला निला पड गया, इसका मतलब विष बहुत जहरीला था, भगवान अगर और अधीक मात्रा मे पि लेते तो न जाने क्या अनर्थ हो जाता ।।
3:- कामधेनु गाय उच्चैःश्रवा घोड़ा और् एरावत हाथी समुद्र से निकले ये क्या मजाक है, अगर किसी मछली के निकलने की बात होती तो एक बार समझ आता,
बेचारे मछुआरो कि जिन्दगी बीत जाती है समुद्र मे जाल फेंकते हुए उन्हे तो आज तक मछली और केकड़ो के अलावा कुछ नही मिला समुद्र से ???
4:- लक्ष्मी जी भी समुद्र मंथन से निकली, तो जवान होने तक लक्ष्मी जी समुद्र मे क्या कर रही थी, समुद से निकलने के बाद का उनके जिवन का लेखा झोखा है लेकीन उनके स्मुद्र के अंदर व्यतीत किये जिवन का लेखा जोखा क्यो नही है???
समुद्र से निकलते हि विष्णू ने लक्ष्मी से शादी करली तो कही एसा तो नही कि य सब लक्ष्मी को समुद्र से निकालने कि विष्णू की चाल तो नही थी????
5:- फिर चंद्र्मा भी समुद्र मंथन से निकला, मित्रो इस बात ने तो गप्पो की हद पार कर दि,चंद्रमा जितना बड़ा ग्रह जो आकार मे प्रथ्वी का एक चौथाई है, वो समुद्र से कैसे निकल सकताहै ???
6:- आखीरी मे समुद्र से अंम्रत का घडा लेकर धन्वंतरी देव निकले, धंनतरी भी तो देवता हि थे तो जब देवताओ को अंम्रत पीना हि था तो सिधा धन्वतरी देव से कह देते वो खुद अंम्रत लेकर आजाते उसके लिये ये सब झमेला करने की क्या जरुरत थी???
या फिर देवताओ के बिच इतना संमर्क भी नही था ???

वेञ्यानीक तौर पर ईसै सच साबीत करने के सबुत ऐन्टीनाधारीओ के पास हो तो पेश करे

Posted in Hinduism topics | 7 Comments

कृष्ण की रास लीलाएं, छल-कपट, साजिशें

ये सच है पाठको कि गीता में कही गई कुछ बातें विवादास्पद और महाभारत जंग, अय्याशी, जुआ, मक्कारी, छल-कपट और अपनों के साथ मार-काट, व बुजुर्गों को भी मत बख्शो जैसी बातों से परिपूर्ण है। रूस का गीता को प्रतिबंधित करने की कवायद सार्थक मानी जा सकती है क्योंकि गीता के कुछ संदेश निगेटिव तरीके से भी लिए जा सकते हैं और आज भारत का नागरिक इन्हीं निगेटिव चीजों को हाथों-हाथ ले रहा है और मैं ये भी बताऊँगा कैसे इसकी वजह से समाज विक्षिप्त हो चला है और जहाँ तहां देखो इसके सत्संग के सिवा और उसके दुष्प्रभाव के अलावा और कुछ नजर नहीं आता है सही पूछो तो इन धार्मिक ग्रंथों के ऐसे ही कुछ हिस्सों की वजह से ही समाज दूषित हो गया है वो कैसे ये आप भी जानते हो और मैं भी अगर आप मेरी नजर से इन धार्मिक ग्रंथो के प्रभाव को जानोगे तो आपको सब कुछ शीशे की तरह साफ़ नजर आएगा. न्यूज़ पेपर आप भी पढते हो और मैं भी। 

कृष्ण की रास लीलाएं व छल-कपट तथा साजिशें

सबसे पहले में मैं कृष्णा पर ही बात करता हूँ जिसके चरित्र का हमारे समाज पर गहरा प्रभाव है वो नकारात्मक जिस तरह से कृष्ण जी ने रासलीलाएं रचाई है ठीक उसी प्रकार आम इंसान भी समाज में रासलीलाएं रचा रहा है यानी घरवाली और बाहर वाली एक नहीं कई-कई बाहरवाली रखने की जुगत में रहता है जैसे की शायद उडीसा के एक साहब थी जिन्होंने दर्जनों बीवियां रखी हुई थी कुल मिलकर डेढ़ सौ सदस्यों का परिवार है एक अकेले का उसगरीब की तो कहानी सार्वजनिक हो चुकी मगर हमारे समाज में कुछ ऐसे सरमायेदार है जो गुप्त रूप से कई-कई रखैल रखे हुए है और उनके मुकद्दमें भी चल रहे है और कैद भी हो चुकी जैसे की मदेरणा साहब, अमरमणि और सुशिल शर्मा वगैरा…मुझे यहाँ जयादा लिखने की जरुरत नहीं है हर पढ़ा-लिखा नागरिक इनके बारे में जानता है कुछ की तो अय्याशियाँ सार्वजानिक ही नहीं हुई है रही आम जन की बात आप आये दिन टीवी में मियाँ-बीवी की जूत-पजार गाहे-बगाहे देखते ही रहते हो और रही टीनेजर्स की बात तो ये भी किसी से कम नहीं है मतलब कहने का कई-कई गर्ल फ्रेंड्स रखने का ट्रेंड सा निकल पड़ा है और इनका एंड एक भयानक त्रासदी पर जाकर ही दम लेता है मैं किसी को क्या कहूँ मैंने भी एक ही समय में चार-चार बाहरवाली रखी हुई थी मैं भी कृष्णा से ही प्रेरित था मेरा भी अपनी बीवी से यही कहना होता था जब कृष्णजी कई-कई रख सकते है तो मैं क्यूँ नहीं रख सकता इस पर मेरी पत्नी भी किसी और के चक्कर में पड़ गई और जब मुझे पता लगा तो मैंने कहा तू अपनी हरकतों से बाज नहीं आएगी तो उसका सीधा सा जवाब था आप का जेल आना जाना लगा रहता है तो मैं क्या करूँ मैं भी द्रोपदी बन गई इसमें हर्ज ही क्या है जब आप कृष्ण बन सकते हो तो मैं भी द्रोपदी बन सकती हूँ बाकि कहानी आप अपने आप समझ लेना अब रही बात छल-कपट और साजिशों की तो वो हमें घर में टीवी के जरिये देखने को मिल ही रही है ये सीरिअल भी गीता और महाभारत की कारगुजारियों से लैस होते है इसमें आपको शक हो सकता है मुझे तो कम से कम नहीं है. आज समाज में जिसे भी देखो वो कृष्ण को ही फोलो कर रहा है फिर चाहे वो जाने अनजाने ही कर रहा हो. एक चीज और जो मैंने एनबीटी में पढ़ी फरीदाबाद में एक साले ने अपने जीजा को निबटा दिया उसने प्रण किया था कि जब तक वो उसे निबटा नहीं देगा तब तक नंगे पैर रहेगा, घातक फिल्म आप सभी ने देखी होगी उसमें भी साला कात्या का नाश करने के बाद ही अपने बदन पर कमीज पहनता है ये तो बानगी भर है जो कि द्रोपदी से प्रेरित है या भीम से प्रेप्रित है शायद  भीम ने भी ऐसी ही कुछ कसम खाई थी कोई बाल ना कटाने की कसम खता है तो कोई चोटी ना बाँधने की कसम खाता है जैसे कि चाणक्या. जेल में इस तरह के कई बंदे है एक बन्दा बी.डी. बण्डल थ�� जेल न.तीन में जिसने कसम खाई थी की जब तक वह अप��ी भाभी के बलात्कारी की मुंडी काटकर बिहार नहीं लाएगा तब वो चैन से नहीं बैठेगा और उसने किया भी रेल में पकड़ा गया और पीपे में मुंडी बरामद हुई थी अब आप ही बता सकते हो कि गीता से प्रेरित होने वाले या महाभारत घातक हुई या नहीं. 

जुआ प्रसंग

अब जुए की बात करते है आज हमारे समाज में सट्टे का प्रचलन चल पड़ा है जुए के कारण कई घर-परिवारों में रोटी तक के भी लाले पड़े हुए है और बातों की तो छोडो और ज्यादा असर क्रिकेट की वजह से पड़ा है बस जुए का प्रारूप बदला है तरीका वही है टेक्नीक का विकास होने वजह से सब-कुछ गुप-चुप तरीके से सब चलता रहता है नतीजा कोई बीवी पति को छोड बच्चों समेत सुसाइड कर लेती है तो कोई खुद ही मौत को गले लगा लेती है और तो और कोई-कोई पति तो ऐसे होते है जो पूर परिवार को जहर देकर खुद भी जहर खाने को मजबूर हो रहे है कोई तमोला, पपलू, रम्मी तो कोई सट्टे में मशगूल है अब आप ही बताओ ये गीता का असर नहीं है तो क्या है और तो कई केस तो आपको ऐसे भी मिल जायेंगे जहां घर-बार की तो छोडो अपनी बीवी तक को दाव पर लगाने से बाज नहीं आते है. अब आप ही बताओ ये गीता-महाभारत का असर नहीं है तो किसका है

गुरुद्रोनाचार्य भीष्मपिताम और तो सब बातें छोडो महाभारत की वजह से गुरुओं दादा-दादी और बुजुर्गों की जान पर बन आई है प्रापर्टी के लालच में आज के टीनेजर या फिर चाहे शादीशुदा हों अपने बुजर्गों और दादा-दादी की जान लेने पर उतारू है और स्टूडेंट अपने टीचरों और प्रोफेसरों की जान ले लेने पर अमादा है यानी सब कुछ कुछ बर्दास्त के बाहर हो चला है आज के परिवेश में छात्र तमंचा लेकर स्कूल पहुँच जाता है पोता दादा-दादी की गला घोटकर हत्या कर देता है बेटा अपने बाप को ही चलता कर देता है बेटी अपनी अपने बाप को ही गड्डी चढ़ा दे रही है. अब यहाँ भी आप ही बताओ महाभारत का असर नहीं है तो फिर ये किसका असर है पुलिस दिन रात बुजुर्गों की सेफ्टी के लिए घोड़े दौड़ा रही है मगर हालात है काबू में आने का नाम नहीं ले रहे है उधर दिल्ली का पुलिस कमिश्नर परेशान है तो कहीं ट्रैफिक कमिश्नर परेशान तो कहीं सरकार परेशान हो रही है कि आखिर ये हो क्या रहा है (हो क्या रहा है सब महाभारत के असर हो रहा है) इसका आसान सा सोलूशन मेरे पास है क्यूँ ना इसकी जड़ तक जाया जाये इसकी सारी जड़ है यही धार्मिक ग्रंथ या पौराणिक ग्रंथ. अब आपकी क्या राय है आप जाने मैंने तो अपनी राय बता दी है और मुझे पक्का यकीन है आप मेरी तरह बेबाकी से अपने बारे में बता भी नहीं सकते.

 

Posted in Hinduism topics | 14 Comments